• May 25, 2024
 अयोध्या- पीएनबी की महिला अधिकारी ने की आत्महत्या, मिले सुसाइड नोट

लखनऊ के IPS अधिकारी समेत तीन पुलिसकर्मियों पर लगाया परेशान करने का आरोप

08c43bc8-e96b-4f66-a9e1-d7eddc544cc3
345685e0-7355-4d0f-ae5a-080aef6d8bab
5d70d86f-9cf3-4eaf-b04a-05211cf7d3c4
IMG-20240117-WA0007
IMG-20240117-WA0006
IMG-20240117-WA0008
IMG-20240120-WA0039

अयोध्या। पीएनबी की सर्कल आफिस में आफीसर पद पर तैनात श्रद्वा गुप्ता (30) ने खवासपुरा स्थित किराए के मकान में फंदे से लटककर आत्म हत्या कर ली। युवती के आत्महत्या की वजह नहीं स्पष्ट नहीं हो सकी है, लेकिन कमरे से मिले सुसाइड नोट की जांच के बाद आत्महत्या की वजह की गुत्थी सुलझने के कयास लगाए जा रहे हैं। फिलहाल पुलिस ने सुसाइड नोट और शव को कब्जे में ले लिया है। पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम कराकर परिजन को सौंप दिया।

कोतवाली नगर के अलीगढ़ पुलिस चौकी क्षेत्र स्थित खवासपुरा निवासी विष्णु अग्रवाल के घर में बैंक आफीसर किराए पर रहती थी। मूल रूप से लखनऊ राजजीपुरम की निवासी थीं। इनके पिता राजकुमार गुप्त कपड़े की दुकान करते हैं। मृतका रीडगंज स्थित पीएनबी के सर्कल आफिस में पिछले 2017 से कार्यरत थीं। शुक्रवार की शाम से ही परिजनों ने इनके मोबाइल फोन पर काल किया, लेकिन रिसीव नहीं हुआ और न ही मोबाइल आनलाइन दिखा। शनिवार को परिजन परेशान होकर मकान मालिक को फोन किए। मकान मालिक ने जब बैंक आफीसर के कमरे में खिड़की से देखा तो श्रद्वा का पैर लटकता नजर आया। जिसकी मकान मालिक ने परिजन को सूचना देते हुए अप्रिय घटना की आशंका जताई। जब तक परिजन यहां पहंुचे उसी बीच मौके पर एसएसपी शैलेष कुमार पाण्डेय, नगर कोतवाल सुरश पाण्डेय व अन्य पुलिस कर्मी भी पहंुच गए। पुलिस ने परिजनों की मौजूदगी में कमरे का दरवाजा तोड़ा तो श्रद्वा का फंदे से शव लटक रहा था। पुलिस ने शव को कब्जे में ले लिया। बैंक आफीसर की आत्महत्या की वजह स्पष्ट नहीं हो सकी है, लेकिन पुलिस को मृतका के कमरे से एक सुसाइड नोट मिली है। इसमें मौत की वजह तीन लोगों को बताई जा रही है।

सुसाइड नोट में जिस विवेक गुप्त का नाम लिखा है बताया जा रहा है कि श्रद्वा का उससे शादी की बात चल चुकी थी, लेकिन रिश्ता बन नहीं पाया था। इसके अलावा दूसरा नाम नाम आशीष तिवारी एसएसएफ हेड लखनऊ और तीसरा नाम अनिल रावत जो फैजाबाद में पुलिस विभाग में है। फिलहाल अभी पुलिस आत्महत्या की तह तक नहीं पहंुच सकी है। इसलिए आत्महत्या के कारण से पर्दा नहीं उठ सका है। उम्मीद जताई जा रही है कि पुलिस जल्द ही सुसाइड नोट की जांच के आधार पर आतम हत्या की वजह से तस्वीर साफ कर देगी।

सुसाइड नोट को पुलिस ने किया सुरक्षित

लखनऊ के राजाजीपुरम की रहने वाली महिला अयोध्याहां शहर के खवासपुरा मोहल्ले में किराए का मकान लेकर रहती थी। पुलिस को कमरे से एक सुसाइड नोट मिला है, जिसमें एक IPS अधिकारी सहित 3 लोगों को आत्महत्या का जिम्मेदार बताया है। पुलिस ने सुसाइड नोट को सुरक्षित कर लिया है। राजाजीपुरम निवासी राजकुमार गुप्ता की पुत्री श्रद्धा गुप्ता ( 30) पंजाब नेशनल बैंक क्षेत्रीय कार्यालय अयोध्या में स्केल वन अफसर थीं। जानकारी पर शैलेश SSP पांडेय पहुंचे। कमरा अंदर से बंद था। खिड़की तोड़कर उसे लाश का बाहर निकाला गया। परिजन मामले में सीएम से न्याय की गुहार लगाई है।

सुसाइड नोट को पुलिस ने किया सुरक्षित

लखनऊ के राजाजीपुरम की रहने वाली महिला अयोध्याहां शहर के खवासपुरा मोहल्ले में किराए का मकान लेकर रहती थी। पुलिस को कमरे से एक सुसाइड नोट मिला है, जिसमें एक IPS अधिकारी सहित 3 लोगों को आत्महत्या का जिम्मेदार बताया है। पुलिस ने सुसाइड नोट को सुरक्षित कर लिया है। राजाजीपुरम निवासी राजकुमार गुप्ता की पुत्री श्रद्धा गुप्ता ( 30) पंजाब नेशनल बैंक क्षेत्रीय कार्यालय अयोध्या में स्केल वन अफसर थीं। जानकारी पर शैलेश SSP पांडेय पहुंचे। कमरा अंदर से बंद था। खिड़की तोड़कर उसे लाश का बाहर निकाला गया। परिजन मामले में सीएम से न्याय की गुहार लगाई है।

जवाब न मिलने पर मकान मालिक को सूचना दी
श्रद्धा के परिवार से जुड़े दीप ने बताया कि शुक्रवार की शाम से ही घरवाले श्रद्धा को फोन कर रहे थे, लेकिन श्रद्धा की ओर से फोन रिसीव नहीं हुआ। शनिवार सुबह भी फोन किया गया तो कोई जवाब न मिलने पर मकान मालिक को सूचना दी गई। मकान मालिक ने श्रद्धा के कमरे में लगी खिड़की से देखा तो अंदर उसका शव फंदे से लटक रहा था। उनकी सूचना पर मृतका के स्वजन यहां पहुंचे। एसएसपी शैलेश पांडेय, एसपी सिटी विजयपाल सिंह, एएसपी पलाश बंसल भी मौके पर पहुंचे और खिड़की तोड़कर श्रद्धा के कमरे में दखिल हुई पुलिस ने शव को कब्जे में लिया।

श्रद्धा 2015 से बैंक में कार्यरत थी
श्रद्धा बहुत ही जिंदादिल इंसान थी। अपनी मेधा के बल पर उसने कम उम्र में स्केल वन अफसर की नौकरी प्राप्त की। विभागीय सह कर्मियों की मानें तो श्रद्धा 2015 से बैंक में कार्यरत थी। बतौर हेड क्लर्क उसने अपनी नौकरी की शुरुआत की थी और विभागीय परीक्षाओं को उत्तीर्ण कर वह अधिकारी के पद तक पहुंची थीं। गुरुवार को क्षेत्रीय कार्यालय में आयोजित एक कार्यक्रम में शामिल हुई थी। शुक्रवार को वह ड्यूटी पर भी नहीं आई थी।

आई एम सॉरी फॉर दिस… लिखकर किया सुसाइड

सुसाइड नोट में श्रद्धा ने बयां किया अपना दर्द

श्रद्धा ने अपने सुसाइड नोट में लिखा कि मेरे सुसाइड की वजह अशीष तिवारी, विवेक गुप्ता और अनिल रावत हैं। आई एम सॉरी फॉर दिस…।

IPS आशीष अयोध्या में रह चुके हैं SSP
IPS आशीष तिवारी अयोध्या जिले में SSP भी रह चुके हैं। लखनऊ की रहने वाली पीएनबी बैंक की मृतक लेडी अफसर श्रद्धा गुप्ता 5 सालों से अयोध्या में कार्यरत थी। सुसाइड नोट में IPS आशीष तिवारी के साथ पुलिस विभाग अयोध्या में कार्यरत अनिल रावत व युवक विवेक गुप्ता का भी नाम लिखा है। बता दें कि युवती ने विवेक गुप्ता अनिल रावत और IPS आशीष तिवारी को मौत के जिम्मेदार ठहराया है।

SSP बोले- नामों की जांच होगी
SSP शैलेश पांडे ने बताया कि सुसाइड नोट मिला है। उसकी जांच कराई जाएगी। उसमें कुछ नाम है, वह नाम कैसे आए हैं। उसकी जांच की जा रही है। जो तथ्य सामने आएंगे उसके अनुसार कार्रवाई की जाएगी। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मौत का कारण स्पष्ट हो सकेगा।

Youtube Videos

Related post