• May 19, 2024
 चांदनी चौक के सौंदर्यीकरण और आधुनिकीकरण के लिए केजरीवाल सरकार को केंद्र सरकार ने किया पुरस्कृत

दिल्ली सरकार के शहरी विकास मंत्री सत्येंद्र जैन को सर्वश्रेष्ठ गैर मोटर चालित परिवहन प्रणाली वाले शहर की श्रेणी में सम्मान देकर केंद्र सरकार ने सम्मानित किया..

08c43bc8-e96b-4f66-a9e1-d7eddc544cc3
345685e0-7355-4d0f-ae5a-080aef6d8bab
5d70d86f-9cf3-4eaf-b04a-05211cf7d3c4
IMG-20240117-WA0007
IMG-20240117-WA0006
IMG-20240117-WA0008
IMG-20240120-WA0039

केंद्रीय आवास एवं शहरी विकास मंत्री हरदीप सिंह पुरी द्वारा यह पुरस्कार प्रदान किया गया.

नई दिल्ली, : केंद्र सरकार ने केजरीवाल सरकार के काम को सराहा है। चांदनी चौक के सौंदर्यीकरण और आधुनिकीकरण के लिए केजरीवाल सरकार को केंद्र सरकार ने पुरस्कृत किया है। शहरी परिवहन के क्षेत्र में उत्कृष्टता पुरस्कार दिया गया है। दिल्ली सरकार के शहरी विकास मंत्री सत्येंद्र जैन को सर्वश्रेष्ठ गैर मोटर चालित परिवहन प्रणाली वाले शहर की श्रेणी में सम्मान देकर सम्मानित किया गया। केंद्रीय आवास एवं शहरी विकास मंत्री हरदीप सिंह पुरी द्वारा यह पुरस्कार प्रदान किया।

केंद्रीय आवास और शहरी विकास मंत्रालय की ओर से डॉ. जोस पी रिजाल मार्ग स्थित सुषमा स्वराज भवन में 14वें अर्बन मॉबिलिटी इंडिया कॉन्फ्रेंस का आयोजन किया गया। केजरीवाल सरकार को पुरस्कार चयन समिति (यूएमआई 2021) ने चांदनी चौक पुनर्विकास की परियोजना के लिए “सर्वश्रेष्ठ गैर-मोटर चालित परिवहन” में “शहरी परिवहन में उत्कृष्टता के लिए पुरस्कार” प्रदान किया।

भारत सरकार के आवास एवं शहरी मामलों के मंत्रालय के मंत्री हरदीप सिंह पुरी द्वारा यह पुरस्कार प्रदान किया गया। दिल्ली के शहरी विकास मंत्री को “सर्वश्रेष्ठ गैर मोटर चालित परिवहन प्रणाली वाले शहर” श्रेणी के तहत शहरी परिवहन में उत्कृष्टता पुरस्कार दिया गया।

इस अवसर पर शहरी विकास मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि चांदनी चौक पुनर्विकास परियोजना को भारत सरकार ने 14वें अर्बन मोबिलिटी इंडिया सम्मेलन में सम्मानित किया है। यह मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की दूरदर्शिता और नेतृत्व के कारण ही साकार हुआ है। इसके प्रोजेक्ट के ऊपर काम करने वाली पूरी टीम को बधाई।

चांदनी चौक दिल्ली का प्रमुख पर्यटन स्थल बन गया

दिल्ली सरकार द्वारा किए गए पुनर्विकास और सौंदर्यीकरण कार्य के चलते चांदनी चौक दिल्ली का प्रमुख पर्यटन स्थल बन गया है। पिछले तीन साल के अंदर दिल्ली सरकार ने चांदनी चौक के पुनर्विकास और सुंदरीकरण का प्रोजेक्ट शुरू किया था। लाल किला से फतेहपुरी मंस्जिद तक का यह पूरा स्ट्रेच लगभग 1.4 किलोमीटर का है। इस पूरे स्ट्रेच को बेहद खूबसूरत बनाया गया है। ट्रैफिक को ठीक किया गया है। जगह-जगह सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। लटक रहे सभी बिजली के तार भूमिगत कर दिए गए हैं। अब यह दिल्ली का सबसे महत्वपूर्ण पर्यटन स्थल बन गया है। चांदनी चौक की पहचान पहले टूटी सड़कें, ट्रैफिक जाम, लटकते बिजली के तार, चांदनी चौक की पहले तश्वीर हुआ करती थी। अब पूरे दिल्ली के लोग देखने आ रहे हैं कि चांदनी चौक कितनी खूबसूरत जगह बन गई है।

चांदनी चौक पुनर्विकास प्रोजेक्ट का संक्षिप्त विवरण-

चांदनी चौक के पुनर्विकास प्रोजेक्ट के प्रस्ताव को 27 अगस्त 2018 को अनुमोदित किया गया था। लोक निर्माण विभाग द्वारा मुख्य परियोजना पर मार्च 2019 में कार्य शुरू किया गया। चांदनी चौक कॉरिडोर का नोटिफिकेशन जून 2021 में हुआ था। चांदनी चौक कॉरिडोर की लंबाई 1.4 किलोमीटर है और रो की चौड़ाई 26 से 30 मीटर है। लालकिला जंक्शन की चौड़ाई 40 मीटर और स्ट्रेच-1 (लाल जैन मंदिर से गुरुद्वारा सीसगंज) 440 मीटर है। इसी तरह, स्ट्रेच-2 (गुरुद्वारा सीसगंज से टाउन हॉल) 450 मीटर, स्ट्रेच-3 (टाउन हॉल से बल्लीमारान) 220 मीटर और स्ट्रेच-4 (बल्लीमारान से फतेहपुरी मस्जिद) 250 मीटर है। वहीं, जोन-1 में इमारतों के अंत तक एनएमवी लेन का किनारा 5 से 11 मीटर चौड़ा है। इसी तरह, जोन-2 में एनएमवी लेन 5.5 मीटर, जोन-3 में सेंट्रल वर्ज 3.5 मीटर, जोन-4 में एनएमवी लेन 5.5 मीटर और जोन 5 में इमारतों के अंत तक एनएमवी लेन का किनारा 5 से 10 मीटर चौड़ा है। जोन-1 और जोन-5 के सड़क मार्ग को ग्रेनाइट से बनाया गया है। जोन-3 ग्रीन एरिया के बीच में ग्रेनाइट फर्श दिया गया है और जोन-2 और जोन-4 के सड़क मार्ग के फूटपाथ को रंगीन कंक्रीट से बनाया गया है।

सुरक्षा के मद्देनजर जगह-जगह लाइट और सीसीटीवी कैमरे

चांदनी चौक के पुनर्विकास कार्य के दौरान वहां आने वाले पर्यटकों की सुरक्षा का विशेष ध्यान रखा गया है। इसके लिए जगह-जगह लाइट और सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। जोन-1 से जोन-5 तक 197 इलेक्ट्रिक पोल लगाए गए हैं। साथ ही, पूरी एरिया में जगह-जगह 124 सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। इसमें चोरी की घटनाओं को नियंत्रित करने और पुलिस को मदद के लिए 100 बुलेट कैमरे लगाए गए हैं। यातायात को नियंत्रित करने के लिए 23 एनपीआर कैमरे लगाए गए हैं। लाल किला जंक्शन पर एक आरएलवीडी कैमरा लगा है। इसके अलावा, यातायात की आवाजाही को नियंत्रित करने के लिए सड़कों पर 17 बूम बैरियर लगाए गए हैं।

Youtube Videos

Related post