• May 25, 2024
 महिला सुरक्षा, सम्मान व स्वावलम्बन से महिला सशक्तिकरण होगा, इसके लिए जागरूकता आवश्यक- योगी

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ   ने कहा है कि महिला सुरक्षा, सम्मान व स्वावलम्बन से महिला सशक्तिकरण होगा, इसके लिए जागरूकता आवश्यक है। इसी क्रम में राज्य सरकार द्वारा ‘मिशन शक्ति अभियान’ का संचालन किया जा रहा है, जिसके सकारात्मक परिणाम दिखायी दे रहे हैं। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि ‘मिशन शक्ति अभियान’ अपने लक्ष्यों को प्राप्त करेगा और महिलाओं के सशक्तिकरण से पूरे समाज व देश में समृद्धि आएगी।

08c43bc8-e96b-4f66-a9e1-d7eddc544cc3
345685e0-7355-4d0f-ae5a-080aef6d8bab
5d70d86f-9cf3-4eaf-b04a-05211cf7d3c4
IMG-20240117-WA0007
IMG-20240117-WA0006
IMG-20240117-WA0008
IMG-20240120-WA0039

                        योगी  आज यहां अपने सरकारी आवास पर हिन्दुस्तान मिशन शक्ति महासंवाद कार्यक्रम को वर्चुअल माध्यम से सम्बोधित कर रहे थे। इस अवसर पर उन्होंने विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्ट उपलब्धियां और सफलताओं को हासिल करने वाली 10 महिलाओं से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से संवाद भी किया। उन्होंने कहा कि वर्तमान में अनेक महिलाएं व बालिकाएं अपने विशिष्ट कार्यों, उपलब्धियों व सफलताओं से समाज को राह दिखा रही हैं और लोगों की प्रेरणास्रोत बन रही हैं।

                           योगी ने कहा कि महिला अपराधों का प्रमुख कारण जागरूकता का अभाव है। महिलाओं के सम्मुख आने वाली चुनौतियों से जूझने के लिए जागरूकता उत्पन्न करने के कार्य व्यापक स्तर पर किए जाने जरूरी हैं। इसके दृष्टिगत वर्ष 2020 में शारदीय नवरात्रि के पर्व पर ‘मिशन शक्ति’ के प्रथम चरण का शुभारम्भ किया गया। इस वर्ष 08 मार्च, 2021 को अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर इस अभियान का द्वितीय चरण आरम्भ हुआ।

                             योगी  ने कहा कि वर्तमान प्रदेश सरकार नारियों की सुरक्षा, सम्मान व स्वावलम्बन के लिए प्रतिबद्ध व संवेदनशील रही है। वर्ष 2017 में सत्ता में आने के बाद ही राज्य सरकार ने बालिकाओं की सुरक्षा व सम्मान के लिए एण्टी रोमियो स्क्वॉयड के गठन की कार्यवाही की। ‘मिशन शक्ति’ के अन्तर्गत 1,535 थानों और 350 तहसीलों में महिला हेल्पडेस्क स्थापित की गई हैं, जो प्रभावी ढंग से कार्य कर रही हैं। पुलिस बल में महिलाओं की भर्ती के तहत कार्यवाही की गई है, जिसके परिणामस्वरूप अधिक संख्या में महिलाएं पुलिस बल में शामिल हुई हैं। उन्होंने कहा कि 18 पुलिस परिक्षेत्रीय कार्यालयों में महिला साइबर क्राइम सेल तथा जनपदों में एक-एक महिला पुलिस चौकी-परामर्श केन्द्र की स्थापना की गई है।

                            योगी  ने कहा कि महिलाओं के प्रति अपराधों पर शीघ्र कार्रवाई कर नियंत्रित करने के लिए  वीमेन पावर लाइन-1090  को पूरे प्रदेश में क्रियाशील किया गया है। महिलाओं तथा बालिकाओं को राहत प्रदान करने तथा उनकी मदद के लिए  महिला हेल्पलाइन-181  संचालित की जा रही है।  वीमेन पावर लाइन-1090  तथा ‘महिला हेल्पलाइन-181’ को ‘एकीकृत आपात सेवा-112’ से इण्टीग्रेट किया गया है। इस सन्दर्भ में उन्होंने सीएम हेल्पलाइन-1076 की भी चर्चा करते हुए कहा कि यह हेल्पलाइन लोगों की समस्याओं के समाधान में कारगर भूमिका निभा रही है।

                         योगी ने कहा कि वित्तीय वर्ष 2021-22 के बजट में महिलाओं के लिए नई योजनाओं का प्राविधान किया गया है। नवीन महिला सामर्थ्य योजना  लागू की जा रही है। इसके माध्यम से राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के अन्तर्गत ग्रामीण क्षेत्रों में महिला दुग्ध उत्पादकों के स्वयं सहायता समूहों की आजीविका में वृद्धि का कार्य किया जाएगा। इस सन्दर्भ में उन्होंने झांसी में बालिनी मिल्क प्रोड्यूसर कम्पनी लि. की चर्चा करते हुए कहा कि इस संस्था ने 46 करोड़ रुपए का कारोबार करते हुए  2 करोड़ रुपए का लाभ अर्जित किया है। उन्होंने कहा कि सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत राशन की दुकानों के निरस्त होने पर राशन वितरण का कार्य महिला स्वयं सहायता समूहों तथा पुष्टाहार वितरण कार्यक्रम से भी महिला स्वयं सहायता समूहों को जोड़ने का कार्य किया जा रहा है।

                          योगी  ने कहा कि  प्रधानमंत्री स्वामित्व योजना  के तहत आबादी में निर्मित आवासों की भूमि का स्वामित्व प्रदान करने के लिए सर्वे की कार्यवाही संचालित है। इस योजना के तहत आबादी की जमीन में महिलाओं को सह खातेदार के रूप में स्वामित्व का अधिकार प्राप्त होगा, जिससे बड़ी संख्या में महिलाएं लाभान्वित होंगी।

                        योगी   ने उत्कृष्ट उपलब्धियां और सफलताओं को हासिल करने वाली गोरखपुर की  श्रीती पाण्डेय (कंस्ट्रक्शन इनोवेटर) से संवाद करते हुए कहा कि उन्होंने कोरोना काल के दौरान भी अपने हौसलों को कायम रखा और आवास निर्माण के क्षेत्र में ईको-फ्रेण्डली कोविड अस्पताल का निर्माण कर उदाहरण प्रस्तुत किया। उन्होंने कहा कि अच्छे और सुरक्षित आवासों की आवश्यकता के दृष्टिगत आवास निर्माण के क्षेत्र में व्यापक सम्भावनाएं हैं, जिन पर कार्य किया जा सकता है। मुख्यमंत्री   ने प्रयागराज के मोतीलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज की डॉ. मोनिका (माइक्रोबायोलॉजी) के कोरोना काल के दौरान किए गए कार्यों की सराहना करते हुए कहा कि उन्होंने आरटीपीसीआर  जांचों के लिए महत्वपूर्ण योगदान दिया।

                                           इनके अलावा, मुख्यमंत्री   ने कानपुर की  प्रेरणा वर्मा (युवा उद्यमी व निर्यातक), आगरा की  अपर्णा राजावत (सेल्फ डिफेंस), अलीगढ़ की  हर्षा अरोड़ा (युवा उद्यमी), वाराणसी की डॉ. नन्दिता शास्त्री (वेद मर्मज्ञ व संस्कृत विद्वान), नोएडा की  शशि नाडिया (गारमेण्ट्स एक्सपोर्ट), बरेली की  गीता शर्मा (पूर्व अन्तर्राष्ट्रीय हॉकी खिलाड़ी), मेरठ की  अनीता राणा (चाइल्ड हेल्पलाइन एवं पर्यावरण) तथा मुरादाबाद की  तैयबा खातून (हस्तशिल्पी) से भी संवाद किया और उनके द्वारा किए गए उत्कृष्ट प्रयासों व कार्यों की सराहना की।

Youtube Videos

Related post