• May 25, 2024
 तकनीक के प्रयोग से जनता की समस्याओं का त्वरित निस्तारण किया जा सकता है- योगी आदित्यनाथ

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ   ने आज अपने सरकारी आवास पर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से 13 जनपदों में राजस्व विभाग के अन्तर्गत लगभग 118 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित 18 आवासीय/अनावासीय भवनों का लोकार्पण किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री जी ने कहा कि विभिन्न जनपदों में निर्मित अनावासीय भवनों में कार्यालय स्थापित होंगेजिससे जनता के कार्य आसानी से सम्पादित हो सकेंगे। इन भवनों में एक ही जगह पर विभिन्न विभागों के कार्यालय मौजूद रहेंगेजिससे जनता सुगमता से अपने कार्य करवा सकेगी।

08c43bc8-e96b-4f66-a9e1-d7eddc544cc3
345685e0-7355-4d0f-ae5a-080aef6d8bab
5d70d86f-9cf3-4eaf-b04a-05211cf7d3c4
IMG-20240117-WA0007
IMG-20240117-WA0006
IMG-20240117-WA0008
IMG-20240120-WA0039

                         योगी आदित्यनाथ ने अनावासीय भवनों में स्थापित किए जाने वाले कार्यालयों के कार्यों के सुचारु सम्पादन के लिए तकनीक का प्रयोग करने के लिए कहा। तकनीक के प्रयोग से जनता की समस्याओं का त्वरित निस्तारण किया जा सकता है। सभी विभाग शासन की मंशा के अनुरूप स्वयं से सम्बन्धित सभी कार्यों को समयबद्धता से पूरा करें।

                             योगी आदित्यनाथ ने कहा कि राज्य सरकार जनता की समस्याओं के त्वरित एवं प्रभावी निराकरण के लिए कटिबद्ध है। आवासीय भवनों को सरकारी अधिकारियों एवं कर्मचारियों को आवंटित किया जाएगा। इससे जहां एक ओर इन लोगों की आवासीय समस्या का समाधान होगावहीं दूसरी ओर कार्यालय के समीप स्थित होने से आवागमन में ज्यादा समय नष्ट नहीं होगा। इससे यह अधिकारी/कर्मचारी कार्यालय में अधिक समय देकर जनसमस्याओं का निराकरण प्रभावी ढंग से कर सकेंगे।

                                           योगी आदित्यनाथ ने कहा कि राजस्व विभाग द्वारा इन भवनों का निर्माण समयबद्धता के साथ पूरी गुणवत्ता से किया गया है। ग्रामीण क्षेत्रों में अधिकांश मामले राजस्ववरासत इत्यादि से सम्बन्धित होते हैं। कार्यालयों की उपलब्धता से अब इन मामलों के निराकरण में तेजी आएगी। इन भवनों में स्थापित कार्यालयों के माध्यम से अब प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी द्वारा लागू की गई स्वामित्व योजना पर तेजी से कार्य किया जा सकेगा। साथ हीघरौनी के कार्य में भी तेजी लायी जा सकेगी।

                                         योगी आदित्यनाथ ने विभिन्न जनपदों में मौजूद पुराने सरकारी भवनों की स्थिति की समीक्षा करने के निर्देश देते हुए कहा कि भविष्य में जो आवासीय/अनावासीय भवन निर्मित किए जाएंउनमें यह व्यवस्था की जाए कि यह भवन आसपास ही हों और अनावासीय भवनों में अधिकांश विभागों के कार्यालय स्थापित किए जा सकेंताकि लोगों को अपना कार्य करवाने में कोई असुविधा न हो।

                                        योगी आदित्यनाथ ने राजस्व परिषद के नियंत्रणाधीन निर्मित जिन आवासीय भवनों का लोकार्पण कियाउनमें तहसील जमुनहा जनपद श्रावस्तीतहसील खतौली जनपद मुजफ्फरनगरतहसील नर्वल जनपद कानपुर नगरतहसील बांगरमऊ जनपद उन्नावतहसील गौरीगंज जनपद अमेठी तथा तहसील अजीतमल जनपद औरैया शामिल हैं।  6 जनपदों में निर्मित इन आवासीय भवनों के निर्माण पर लगभग 33 करोड़ 51 लाख रुपये की लागत आयी है।

                                        इसी प्रकार तहसील जलालाबाद जनपद शाहजहांपुरतहसील सदर जनपद हमीरपुरतहसील जमुनहा जनपद श्रावस्तीतहसील पाली जनपद ललितपुरमण्डलायुक्त चित्रकूट धाम मण्डल बांदा के कार्यालय के अनावासीय भवनतहसील पैलानी जनपद बांदातहसील नरैनी जनपद बांदातहसील बांगरमऊ जनपद उन्नावतहसील हसनगंज जनपद उन्नावतहसील पयागपुर जनपद बहराइचतहसील खलीलाबाद जनपद संतकबीरनगर तथा तहसील लम्भुआ जनपद सुलतानपुर में अनावासीय भवनों का निर्माण किया गया है। इन 12 जनपदों में निर्मित अनावासीय भवनों के निर्माण पर लगभग 84 करोड़ 47 लाख रुपये की लागत आयी है।

                                         कार्यक्रम को वित्त मंत्री   सुरेश कुमार खन्ना तथा राजस्व एवं बाढ़ नियंत्रण राज्य मंत्री   विजय कुमार कश्यप ने भी सम्बोधित किया। राजस्व परिषद के अध्यक्ष डॉ. दीपक त्रिवेदी ने अतिथियों का स्वागत किया।

Youtube Videos

Related post