• February 22, 2024
 कृषि मंत्रालय ने क्रॉप कटिंग एक्सपेरीमेंट्स करनेके लिए लीड्स कनेक्ट सर्विसेज को चुना

कृषि मंत्रालय के कृषि, सहकारिता एवं किसान कल्याण विभाग ने देशभर के 100 जिलों में क्रॉप कटिंग एक्सपेरीमेंट्स (सीसीई) करने के लिए नोएडा की कंपनी लीड्सकनेक्ट सर्विसेज   व दो अन्य स्वतंत्र एजेंसियों को नियुक्त किया है। यह परियोजना भारत सरकार की प्रमुख योजना प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना (पीएमएफबीबाई) का अंग है। इसके अंतर्गत एजेंसी तकनीक आधारित ग्राम पंचायत स्तरीय अनुमानित उपज के लिए व्यापक स्तर पर प्रायोगिक अध्ययन करेगी।

08c43bc8-e96b-4f66-a9e1-d7eddc544cc3
345685e0-7355-4d0f-ae5a-080aef6d8bab
5d70d86f-9cf3-4eaf-b04a-05211cf7d3c4
IMG-20240117-WA0007
IMG-20240117-WA0006
IMG-20240117-WA0008
IMG-20240120-WA0039

                            लीड्स कनेक्ट अपनी रिमोट सेंसिंग और जीआईएस, आर्टीफीशियल इंटेलीजेंस (एआई) और आंकड़ा विश्लेषण फ्रेमवर्क जैसी अत्याधुनिक तकनीकों के माध्यम से राज्य सरकार द्वारा की गई सीसीई का सह-निरीक्षण करेगी। लीड्सकनेक्ट इसके अलावा उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और राजस्थान के कुल 25 जिलों की ग्राम पंचायतों में गेहूं की अतिरिक्त सीसीई करेगी। यह प्रायोगिक अध्ययन 2021 के खरीफ के सत्र से 200 जिलों तक बढ़ाई जा सकती है, जो भारत सरकार की उस पहल का हिस्सा है जिसमें पीएमएफबीआई के अंतर्गत उपज का उचित अनुमान और समय पर क्लेम सेटलमेंट करने के लिए तकनीक का उपयोग किया जाता है।

                                इस अवसर पर लीड्स कनेक्ट  के चेयरमैन  नवनीत रविकर ने कहा,  यह पारंपरिक संख्या आधारित सीसीई डाटा कलेक्शन और उपग्रह रिमोट सेंसिंग तकनीक आधारित स्मार्ट सेंपलिंग कार्यप्रणाली का स्मार्ट समिश्रण होगा। इसकी प्रबल संभावना है कि भविष्य में नई कार्यप्रणाली पारंपरिक विधि की जगह ले लेगी और उपज के बेहतर अनुमान के मॉडल या सिस्टम के साथ सेंपलिंग पॉइंट्स की संख्या कम कर देगी।

Youtube Videos

Related post